तब भी 8 PM नो CM: अब भी 8PM नो CM

Thursday January 2, 2020

कोटा में 104 सेे ज्यादा बच्चों की मौत हो गई और राजस्थान के मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि इस घटना का मुद्दा इसलिए बनाया जा रहा है क्योंकि सीएए से ध्यान बांटने की कोशिश है. क्या मजाक है ये गहलोत सरकार का अपने कारनामों को छिपाने के लिए सरकार दूसरों को दोष दे रही है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कोटा में बच्चों की मौत पर उच्च स्तरीय जांच समीति बठाई तो गहलोत को ये बात बुरी लग गई. गहलोत ने कहा कि ये सब इसलिए किया जा रहा है क्योंकि सीएए से ध्यान हटाने की कोशिश है. अरे ये क्या मजाक है गहलोत जी. क्या राज्य में बच्चों की मौत हो रही है तो केंद्र सरकार इसकी जांच भी नहीं करा सकती. और दूसरी बात ये है कि अगर बच्चों की मौत हो रही है तो गहलोत सरकार अपनी जिम्मेदारी से पल्ला कैसे झांड कर सकती है.

क्या सो रही है गहलोत सरकार?

दरअसल हुआ ये है कि कोटा के जेके लोन अस्पताल में नवजात बच्‍चों की मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है. और इस मामले में केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने एक उच्‍चस्‍तरीय टीम का गठन कर दिया है. इस टीम में एम्‍स जोधपुर के विशेषज्ञ डॉक्‍टर, हेल्‍थ फाइनेंस ऐंड रीजनल डायरेक्‍टर और जयपुर हेल्‍थ सर्विस के लोग शामिल होंगे। यह टीम शुक्रवार को कोटा स्थित जेके लोन सरकारी अस्‍पताल पहुंचेगी. ये बात गहलोत को अखर गई और उलूल जलून बकने लगे.

अरे गहलोत जी. राज्य के सीएम आप हैं. जिम्मेदारी आपकी है और बच्चों की मौत अगर हो रही है तो जिम्मेदारी से पल्ला आप झांड नहीं सकते. इसलिए इस घटना की राजनीति आप न करें और बच्चों को बचाने का इंतजाम करें.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

बॉलीवुड